India Uttar Pradesh

RSS प्रमुख मोहन भागवत बोले- बहुत हुआ इंतजार, भावनाओं की कद्र करना हमारी जिम्मेदारी

आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने वाराणसी में प्रवास के अंतिम दिन शुक्रवार को अयोध्या कूच का संदेश देते हुए कहा कि राम मंदिर करोड़ों हिंदुओं की भावना से जुड़ा मुद्दा है। हिंदू समाज अयोध्या में भव्य मंदिर की उम्मीद करता है।

  • राम मंदिर निर्माण पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने दिया बड़ा बयान
  • अयोध्या कूच के संदेश के साथ बोले संघ प्रमुख, बहुत हुआ इंतजार, अब कोर्ट-सरकार को करना चाहिए विचार
  • अनुषांगिक संगठनों की मदद करें संघ कार्यकर्ता, मोहन भागवत ने दिए निर्देश
  • 25 नवंबर को होने वाली धर्मसभा के लिए वीएचपी ने तेज की तैयारियां

Nov 16, 2018, वाराणसी : राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने काशी प्रवास के अंतिम दिन शुक्रवार को आयोध्‍या कूच का संदेश दिया। ऐसे में लोकसभा चुनाव 2019 में राम मंदिर मुद्दा गेम चेंजर साबित हो सकता है। वाराणसी में चल रहे प्रचारक वर्ग शिविर के छठवें और अंतिम दिन भी किसी न किसी रूप में राम मंदिर मुद्दा ही छाया रहा।

सूत्रों के मुताबिक, मोहन भागवत ने शिविर में शामिल देशभर के चुनिंदा प्रचारकों की बैठक में लगातार दूसरे दिन राम मंदिर पर खुलकर बात की। आरएसएस प्रमुख ने स्पष्ट रूप से कहा कि राम मंदिर करोड़ों हिंदुओं की भावना से जुड़ा मुद्दा है। हिंदू समाज आयोध्‍या में भव्‍य राम मंदिर की अपेक्षा रखता है। पुरातात्विक साक्ष्‍य मंदिर के पक्ष में आए हैं। ऐसे में कोर्ट और सरकार, दोनों को करोड़ों हिंदुओं की भावना के बारे में विचार कर फैसला लेना चाहिए।

‘बहुत हुआ इंतजार, भावनाओं का सम्मान करना हमारी जिम्मेदारी’
मोहन भागवत ने कहा कि प्रतीक्षा बहुत लंबी हो चुकी है। अयोध्‍या कूच के संदेश के साथ राम मंदिर निर्माण के लिए चल रहे जनजागरण में संघ कार्यकर्ताओं से अनुषांगिक संगठनों का भरपूर सहयोग करने को कहा है। उन्होंने साथ ही यह भी जोड़ा कि राम मंदिर मुद्दे का राजनीति से कोई मतलब नहीं है। हमारी नैतिक जिम्‍मेदारी बनती है कि समाज के अधिसंख्‍य लोगों की भवानाओं का सम्मान करें। देश ही नहीं दुनिया भी श्रीराम के न्‍याय, व्‍यवस्‍था, कर्मठता, लगनशीलता के संस्‍कार के प्रति स्‍नेह को आज स्‍वीकार कर रही है। इसके मूल में राष्‍ट्र का विकास छिपा है। आज समय आ गया है राम की रीति-नीति का प्रचार होना चाहिए।

नवागतों के लिए दिया यह मंत्र

मोहन भागवत ने प्रचारकों से एक देश-एक राष्‍ट्र की अवधारणा पर काम करते हुए समाज में मजबूत पैठ बनाने के अभियान को और तेज पर जोर दिया। आरएसएस चीफ ने कहा कि संघ की जड़ें पूरे देश में फैल चुकी है। अब बस जरूरत है शाखाओं के जरिए घर-घर पहुंचने की। यह काम सभी को निस्‍वार्थ भाव से करना होगा। नवागतों के लिए उन्‍होंने मंत्र दिया- ‘संघ में आने से ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण यह है कि संघ मुझमें आए।’ सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी ने संघ कार्यकर्ताओं को पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में आगे आने की जरूरत बताई। छह दिन के प्रवास के बाद संघ प्रमुख देर रात ट्रेन से दिल्‍ली रवाना होंगे।

बता दें कि राम मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्‍या में 25 नवंबर को होने वाली धर्मसभा के लिए विश्‍व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने तैयारी तेज कर दी है। दो लाख से ज्‍यादा लोगों के अयोध्‍या चलने का लक्ष्‍य तय किया गया है, इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से पांच हजार लोगों की भागीदारी होगी।

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने राम मंदिर पर अपना नजरिया साफ करने के साथ जनजागरण के लिए जिम्‍मेदारी आनुषांगिक संगठन वीएचपी को सौंपी है। अयोध्‍या में होने वाली धर्मसभा वीएचपी के ही बैनर तले होगी। वाराणसी के इंग्लिशिया लाइन स्थित कार्यालय पर शुक्रवार शाम वीएचपी के काशी प्रांत की बैठक में कार्यकर्ताओं से प्रखंड और बस्‍ती स्‍तर पर राम मंदिर को ‘अयोध्‍या चलो’ के नारे के साथ जनमत तैयार करने मंत्र और जिम्‍मेदारी सौंपी गई।

Source: navbharattimes.indiatimes.com

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *